Skip to content
Home » गिर्दा की कविता | जैंता एक दिन तो आलो | सारा पानी चूस रहे हो | Girda poem

गिर्दा की कविता | जैंता एक दिन तो आलो | सारा पानी चूस रहे हो | Girda poem

  • Poeam
Girda poem

गिर्दा की कविता – जैंता एक दिन तो आलो .

Girda poem –

Redmi 12

ततुक नी लगा उदेख ,

घुनन मुनइ नि टेक,

जैंता एक दिन तो आलो उ दिन यो दुनी में।

जै दिन कठुलि रात ब्यालि,

पौ फाटला, कौ कड़ालो,

जैंता एक दिन तो आलो उ दिन यो दुनी में।।

जै दिन चोर नी पफलाला,

कै कै जोर नी चललो,

जैंता एक दिन तो आलो उ दिन यो दुनी में।

जै दिन नान-ठुलो नि रौलो,

जै दिन त्योर-म्योरो नि होलो,

जैंता एक दिन तो आलो उ दिन यो दुनी में।।

चाहे हम नि ल्यै सकूँ,

चाहे तुम नि ल्यै सकौ,

मगर क्वे न क्व तो ल्यालो उ दिन यो दुनी में।

वि दिन हम नि हुँलो लेकिन,

हमलै वि दिन हूँलो …

जैंता एक दिन तो आलो उ दिन यो दुनी में।।

गिर्दा की कविता –  सारा पानी चूस रहे हो ,नदी समंदर लूट रहे हो ! | Girda poem

 

एक तरफ बर्बाद बस्तियाँ ,

एक तरफ हो तुम।

एक तरफ डूबती कश्तियाँ , 

एक तरफ हो तुम।

एक तरफ हैं सूखी नदियाँ, 

 एक तरफ हो तुम।।

एक तरफ है प्यासी दुनियाँ,

 एक तरफ हो तुम।

अजी वाह! क्या बात तुम्हारी ।

तुम तो पानी के व्योपारी,

खेल तुम्हारा तुम्हीं खिलाड़ी,

बिछी हुई ये बिसात तुम्हारी।।

सारा पानी चूस रहे हो,

नदी, समन्दर लूट रहे हो ।

गंगा-यमुना की छाती पर

कंकड़-पत्थर कूट रहे हो।।

उफ! तुम्हारी ये खुदगर्जी ।

चलेगी कब तक ये मनमर्जी,

जिस दिन डोलगी ये धरती,

सर से निकलेगी सब मस्ती।।

महल-चौबारे बह जायेंगे।

खाली रौखड़ रह जायेंगे,

बूँद-बूँद को तरसोगे जब ,

बोल व्योपारी ! तब क्या होगा?

नगद उधारी !तब क्या होगा??

आज भले ही मौज उड़ा लो ।

नदियों को प्यासा तड़पा लो,

गंगा को कीचड़ कर डालो ।

लेकिन डोलेगी जब धरती ,

बोल व्योपारी ! तब क्या होगा?

वर्ल्ड बैंक के टोकनधारी !

 तब क्या होगा ?

योजनकारी ! तब क्या होगा ?

नगद उधारी ,तब क्या होगा ?

एक तरफ हैं सूखी नदियाँ !

एक तरफ हो तुम।

एक तरफ है प्यासी दुनियाँ,

 एक तरफ हो तुम।।।

Girda poem

गिरीश तिवारी गिर्दा में विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बहुचर्चित कुमाउनी गीत क्रीम पोडरा के बोल यहाँ देखें

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *