Skip to content
Home » मेरे गाँव आओगे | Mere Gaon Aaoge by RAHGIR

मेरे गाँव आओगे | Mere Gaon Aaoge by RAHGIR

मेरे गाँव आओगे

मेरे गाँव आओगे गीत के बोल …..

amazon holi sale

तुम मुड़ तो पाओगे, पर लौट ना पाओगे
तुम मुड़ तो पाओगे, पर लौट ना पाओगे

मेरी याद आएगी उस मक़ाम पे कभी
तुम पकड़ के गाड़ी शायद मेरे गाँव आओगे
तुम पकड़ के गाड़ी शायद मेरे गाँव आओगे
मैं मिलूँगा ही नहीं उस मकान पे कभी
तुम पकड़ के गाड़ी शायद…..

Surat station के बाहर ठंडी bench थी, चाय गरम थी
बगल में एक ताऊ के हाथ में बीड़ी थी, जो लगभग ख़तम थी
मैंने बस दो चार चुस्कियाँ ली थी कि उतने में ताऊ ने दूसरी सुलगा ली थी
पहली को फ़ेंका ज़मीन पर और जूती से कुचल दिया
मुझे जाने क्यूँ तेरी याद आई, मैं उठा और चल दिया

शामों का काम तो ढलना है, ढलेंगी तब भी
हवाओं का काम तो चलना है, चलेंगी तब भी
ज़ुल्फ़ों की तो ये फ़ितरत है, उड़ेंगी तब भी
कोई और सँवारेगा तो भी मेरी याद आएगी

तुम सोच तो लोगे, पर बोल ना पाओगे
तुम सोच तो लोगे, पर बोल ना पाओगे
दिल की बात आएगी ना जबान पे कभी
तुम पकड़ के गाड़ी शायद मेरे गाँव आओगे
मैं मिलूँगा ही नहीं उस मकान पे कभी

Jaisalmer में झाड़ के मिट्टी अपने जूतों-कपड़ों से
एक टीले पर मैं बैठा था, दूर जहाँ के लफ़ड़ों से
दूर कहीं वो ढलता सूरज मुझे छोड़ के तन्हा ढल गया
उस ठंडी रात में, उस ठंडी रेत पर मैं लेटे-लेटे जल गया

शब्द हैं, दर्द है, कलाकारी है, गीत बना लूँगा
उन गीतों की क़ीमत भारी है, मैं कमा लूँगा
ओ, तेरा नाम ना लूँगा, ख़ुद्दारी है, मैं छुपा लूँगा
कोई गुनगुनाएगा तो तुम समझ ही जाओगे

तुम पैसे – औहदों पर इतरा ना पाओगे
तुम पैसे – औहदों पर इतरा ना पाओगे
इतनी तालियाँ होंगी मेरे नाम पे कभी
तुम पकड़ के गाड़ी शायद मेरे गाँव आओगे
मैं मिलूँगा ही नहीं उस मकान पे कभी

Mere Gaon Aaoge lyrics by RAHGIR

Tum mud toh paaoge, par laut na paaoge
Tum mud toh paaoge, par laut na paaoge

Meri yaad aayegi uss maqaam pe kabhi
Tum pakad ke gaadi shayad mere gaon aaoge
Tum pakad ke gaadi shayad mere gaon aaoge
Main milunga hi nahi uss makaan pe kabhi
Tum pakad ke gaadi shayad…

Surat station ke bahar thandi bench thi, chai garam thi
Bagal mein ek taau ke haath mein beedi thi jo lagbhag khatam thi
Maine bas do-chaar chuskiyan li thi ke utne mein taau ne doosri sulga li thi
Pehli ko fenka zameen par aur jooti se kuchal diya
Mujhe jaane kyun teri yaad aayi, main utha aur chal diya

Shaamon ka kaam toh dhalna hai,dhalengi tab bhi
Havaon ka kaam toh chalna hai, chalengi tab bhi
Zulfon ki toh ye fitrat hai, udengi tab bhi
Koi aur savaarega toh bhi meri yaad aayegi

Tum soch toh loge, par bol na paaoge
Tum soch toh loge, par bol na paaoge
Dil ki baat aayegi na jabaan pe kabhi
Tum pakad ke gaadi shayad mere gaon aaoge
Main milunga hi nahi uss makaan pe kabhi

Jaisalmer mein jhaad ke mitti apne jooton-kapdon se
Ek teele par main baitha tha, door jahan ke lafdon se
Door kahin woh dhalta sooraj mujhe chhod ke tanha dhal gaya
Uss thandi raat mein, uss thandi ret par main lete-lete jal gaya

Shabd hain, dard hai, kalakaari hai, geet bana lunga
Un geeton ki keemat hai, main kama lunga
Oh, tera naam na lunga, khuddari hai, main chhupa lunga
Koi gungunayega toh tum samajh hi jaaoge

Tum paise-ohdon par itra na paaoge
Tum paise-ohdon par itra na paaoge
Itni taaliyan hongi mere naam pe kabhi
Tum pakad ke gaadi shayad mere gaon aaoge
Main milunga hi nahi uss makaan pe kabhi

इसे भी –

घर मे पधारो गजानन जी भजन लिरिक्स हिंदी || Ghar me padharo gajanan ji lyrics in Hindi | lyrics in English

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *