Skip to content
Home » Kachha Ghada by RAHGIR | एक कच्चा घड़ा हूँ मैं

Kachha Ghada by RAHGIR | एक कच्चा घड़ा हूँ मैं

Ek Kachha Ghada Hun Main

एक कच्चा घड़ा हूँ मैं
एक कच्चा घड़ा हूँ मैं
फ़िर भी बरसात में खड़ा हूँ मैं।

amazon holi sale

बूँदें बेरहम हैं, उनको ये वहम है
कि मैं टूट रहा हूँ, जो मैं चीख रहा हूँ
पर वो बेवकूफ़ हैं, मैं तो सीख रहा हूँ।

ऐसे पहले भी लड़ा हूँ मैं
एक कच्चा घड़ा हूँ मैं

हम वो हैं जो क़िस्मत के चाँटों के शोर पे नाचते हैं
हम वो हैं जो क़िस्मत के चाँटों के शोर पे नाचते हैं
जितनी ज़ोर का चाँटा, हम उतनी ज़ोर से नाचते हैं।

ये जो खिसक-खिसक के मैं आगे जा रहा हूँ
ये जो फ़िसल-फ़िसल के मैं पीछे आ रहा हूँ
ये जो पिघल-पिघल के मैं बहता जा रहा हूँ
ये जो सिसक-सिसक के मैं आहें भर रहा हूँ।

नीचे हैं खाइयाँ, और मैं काँप रहा हूँ
पर ज़िंदा हूँ अभी, अभी हाँफ़ रहा हूँ।

ऐसे पहले भी चढ़ा हूँ
मैं एक कच्चा घड़ा हूँ मैं।

एक तो राहों में बबूल बहुत हैं
उसके ऊपर से अपने उसूल बहुत हैं
उसके ऊपर से लोग टोकते रहते है
कि Rahgir भाई, उधर जाओ
उधर फूल बहुत हैं।

जो हँस रही है दुनिया मेरी नाकामियों पे
ताने कस रही है दुनिया मेरी नादानियों पे
पर मैं काम कर रहा हूँ मेरी सारी खामियों पे
कल ये मारेंगे ताली मेरी कहानियों पे।

कल जो बदलेगी हवा, ये साले शरमाएँगे
“हमारे अपने हो,” कह के ये बाँहें गरमाएँगे।

क्योंकि ज़िद्दी बड़ा हूँ मैं
एक कच्चा घड़ा हूँ मैं
फ़िर भी बरसात में खड़ा हूँ मैं।

बूँदें बेरहम हैं, उनको ये वहम है
कि मैं टूट रहा हूँ, जो मैं चीख रहा हूँ
पर वो बेवकूफ़ हैं, मैं तो सीख रहा हूँ।।

ऐसे पहले भी लड़ा हूँ मैं,
एक कच्चा घड़ा हूँ मैं ।

 

Ek Kachha Ghada Hun Main

Ek kachha ghada hun main
Ek kachha ghada hun main
Fir bhi barsaat mein khada hun main.

Boondein berehem hain, unko yeh vehem hai
Ke main toot raha hun, jo main cheekh raha hun
Par woh bewakoof hain, main to seekh raha hun.

Aise pehle bhi lada hun main
Ek kachha ghada hun main.

Hum woh hain jo qismat ke chaanton ke shor pe naachte hain
Hum woh hain jo qismat ke chaanton ke shor pe naachte hain
Jitni zor ka chaanta, hum utni zor se naachte hain

Yeh jo khisak-khisak ke main aage ja raha hun
Yeh jo fisal-fisal ke main peeche aa raha hun
Yeh jo khisak-khisak ke main aage ja raha hun
Yeh jo fisal-fisal ke main peeche aa raha hun.

Neeche hain khaaiyan, aur main kaanp raha hun
Par zinda hun abhi, abhi haanf raha hun.

Aise pehle bhi chadha hun main
Ek kachha ghada hun main.

Ek toh raahon mein babool bahut hain
Uske oopar se apne usool bahut hain
Uske oopar se log tokte rehte hain
Ke Rahgir bhai, udhar jaao
Udhar phool bahut hain.

Yeh jo has rahi hai duniya meri naakamiyon pe
Taane kas rahi hai duniya meri naadaniyon pe
Par main kaam kar raha hun meri saari khaamiyon pe
Kal yeh maarenge taali meri kahaniyon pe.

Kal jo badlegi havam, yeh saale sharmavenge
Kal jo badlegi havam, yeh saale sharmayenge
“Humare apne ho,” keh ke yeh baahein garmayenge.

Kyonki ziddi bada hun main
Ek kachha ghada hun main
Fir bhi barsaat mein khada hun main.

Boondein berehm hain, unko yeh vehem hai
Ke main toot raha hun, jo main cheekh raha hun
Par woh bewakoof hain, main to seekh raha hun.

Aise pehle bhi lada hun main
Ek kachha ghada hun main.

इन्हें भी देखें –

तू आता है, सीने में गीत लिरिक्स || Tu aata hai seene me song lyric | song detail best whatsapp status for if you missing your love |

रानीखेत के प्रसिद्ध घूमने वाले स्थान ….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *